MPMVY: Mera Pani Meri Virasat Yojana Registration 2022 Last Date

Mera Pani Meri Virasat Yojana Haryana 2022 : नमस्कार दोस्तों!!! जैसा कि आप सभी जानते हैं कि हम अपनी वेबसाइट pmyojanaking.in के माध्यम से केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी देते हैं इसी के  बीच हरियाणा सरकार द्वारा चलाई जा रही “mera pani meri virasat yojana” जानकारी आपसे साझा करेंगे. जैसा कि आप सभी जानते हैं कि हरियाणा हमारे देश का एक कृषि प्रधान राज्य है राज्य में आज भी लोग परंपरागत खेती कर रहे हैं.

आप यह भी जानते होंगे कि इस समय धान (चावल) की खेती चल रही है. हरियाणा सरकार चाहती है कि लोग ऐसी खेती-बाड़ी को छोड़कर न्यू खेती को अपनाएं. धान की खेती को छोड़कर अन्य फसलें बनाने पर राज्य सरकार द्वारा  किसानों को 7000 की सहायता राशि दी जाएगी. आज हम आपको अपने समय के माध्यम से Mera Pani Meri Virasat Yojana के लिए पात्रता, ऑनलाइन आवेदन कैसे करें यह सभी जानकारियां से साझा करेंगे अधिक जानकारी के लिए लेकर अंत तक पढ़े.

Mera Pani Meri Virasat Yojana Haryana

Mera Pani Meri Virasat Yojana Haryana

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि हरियाणा हमारे देश में कृषि प्रधान राज्य में राज्य में आज भी लोग परंपरागत खेती करते हैं. परंपरागत खेती की धान की खेती करने में पानी का कितना अधिक नुकसान होता है. Mera Pani Meri Virasat Yojana के अंतर्गत हरियाणा सरकार डार्क जोन में शामिल क्षेत्रों में धान की खेती छोड़ने तथा धान के स्थान पर अन्य वैकल्पिक फसलों की बुवाई करने पर राज्य के किसानों को 7000 रुपए प्रति एकड़ की सहायता प्रधान करेगी. इस योजना के अंतर्गत पहले चरण में राज्य में 19 ब्लॉक शामिल किए गए हैं.

जिनमें भूजल की गहराई 40 मीटर से ज्यादा है. इनमें से 8 ब्लॉक ऐसे हैं जहां पर धान की सबसे अधिक रोपाई की जाती है जिसमें कैथल के सी बनगोला शेरशाह के बाद में रसिया कुरुक्षेत्र के शाहबाद इस्लामाबाद पिपली  शामिल हैं. ऐसे क्षेत्र में पानी की काफी कमी हो गई है. बेहतर भविष्य के लिए राज्य सरकार द्वारा दूसरी तरह की फसल उगाने के लिए सहायता राशि देने का निर्णय किया गया है.

Information Table of mera pani meri virasat 2022

योजना का नाममेरा पानी मेरी विरासत योजना
शुरू की गई योजनामुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा
लाभार्थीहरियाणा राज्य के किसान
सहायता राशि7000 रुपए
योजना का क्षेत्रहरियाणा राज्य के 18 ब्लॉक
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन
आधिकारिक वेबसाइट

मेरा पानी मेरी विरासत योजना का उद्देश्य

दोस्तों Haryana Mera Pani Meri Virasat Yojana के बारे में अधिक जानकारी देते हुए बता दें कि हरियाणा के कृषि प्रधान राज्य है राज्य के अभी भी ज्यादा लोग किसान परंपरा खेती करते हैं. परंपरागत खेती यानी कि धान की खेती करने में आपको पता ही होगा कि सबसे अधिक पानी का उपयोग करता है राज्य में कई ऐसी जगह है. जहां पर पानी का लेवल 40% से भी नीचे चला गया है ऐसी जगह पर धान की खेती की जगह अन्य वैकल्पिक खेती करने पर राज्य सरकार द्वारा सहायता राशि देने का निर्णय किया गया है.

ताकि आने वाले समय के लिए पानी बचा के रखा जा सके क्योंकि अगर पानी को जल्द ही नहीं बचाया गया तो यहां पर आने वाले समय पर सूखा पड़ेगा जिससे राज्य की जमीन बंजर हो जाएंगे. अगर जमीन बंजर हो गई तो, इसका सीधा नुकसान राधे के किसानों को होगा जिसके कारण वह फसल का पैदावार नहीं कर पाएंगे तथा उन्हें आय का कोई भी साधन नहीं मिलेगा. इसीलिए हरियाणा सरकार द्वारा परंपरागत खेती को छोड़कर अन्य वैकल्पिक करती जैसे की मक्का आदि फसलों को बीतने पर सरकार द्वारा सहायता राशि देने का निर्णय किया गया है. राज्य में भूजल को देखते हुए हरियाणा सरकार द्वारा इस योजना की शुरुआत की गई है.

Mera pani Mari virasat Yojana 2022

दोस्तों योजना के बारे में अधिक जानकारी देते हुए बता दें कि हरियाणा राज्य के कृषि मंत्री जेपी लदान जी ने कहा कि सरकार द्वारा पहले इस योजना के लिए अंतिम तारीख 15 जून रखी गई थी लेकिन राज्य सरकार द्वारा इसे बढ़ाकर 15 जुलाई कर दिया गया है. हरियाणा राज्य के किसानों के पास यह एक सुनहरा मौका है जिसके तहत वह हरियाणा सरकार द्वारा चलाई जा रही मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत पंजीकरण करवाकर अन्य वैकल्पिक खेती करके ₹7000 कमा सकते हैं.

गर्मियों में पानी की कमी को देखते हुए हरियाणा सरकार द्वारा मेरा पानी मेरी बराती योजना की शुरुआत की गई है जिसके तहत हरियाणा राज्य के किसानों को धान की खेती छोड़ने के अलावा अन्य किसी फसल को होने पर सरकार द्वारा सहायता राशि के तौर पर ₹7000 देने की घोषणा कर दी गई है योजना के तहत हरियाणा सरकार ने यह लक्ष्य रखा है कि आने वाली भावी पीढ़ी को पानी की किसी भी तरह की कमी ना हो इसी उद्देश्य से इस योजना की शुरुआत की गई है जो भी लाभार्थी इस योजना के तहत अपना चावल की खेती छोड़ता है तथा अन्य वैकल्पिक कृषि अपनाता है तो सरकार द्वारा उसे सहायता राशि के तौर पर नई फसल उगाने पर 7000 रुपए प्रदान किए जाएंगे

मेरा पानी मेरी विरासत योजना की आवश्यकता क्यों पड़ी?

दोस्तों इस योजना की आवश्यकता इसलिए पड़ी क्योंकि हरियाणा कृषि प्रधान राज्य राज्य में किसानों को भव्य नफरत खेती छोड़ने तथा अन्य वैकल्पिक फसलें उगाने के लिए प्रोत्साहन करने के लिए इस योजना की शुरुआत की गई. धान की बुआई होती है तो लोगों को जमीन से पानी निकालना पड़ता है अधिक से अधिक पानी निकालने पर राज्य के किसानों की जमीनों का भूजल स्तर काफी नीचे चला गया. आने वाले समय में यहां की जमीनें बंजर हो जाएंगी जिससे कि किसानों के पास आय का कोई भी साधन नहीं रहेगा इसलिए हरियाणा सरकार द्वारा इस योजना की शुरुआत की गई है जिससे कि वह ऐसी फसलों का उत्पादन करें जिन्हें बेचने में कम पानी का इस्तेमाल हो.

मेरा पानी मेरी विरासत योजना का लाभ

  • हरियाणा सरकार की इस योजना से राज्य में जल संरक्षण को बढ़ावा मिलेगा.
  • योजना का लाभ डार्क क्षेत्र में रह रहे जो लोग जहां पर वह प्राकृतिक खेती कर रहे हैं वहां के किसानों को मिलेगा.
  • दूसरे क्षेत्र के यदि किसान यह फसल होना चाहते हैं तो राज्य के किसान इस योजना का लाभ ले सकते हैं.
  • धान की खेती के अलावा राज्य के किसान – मक्का अरहर दाल, कपास अन्य वैकल्पिक खेती कर सकते हैं.
  • परंपरागत खेती धान की खेती को छोड़ने पर सरकार द्वारा सहायता राशि के तौर पर ₹7000 दिए जाएंगे.
  • आने वाले भविष्य के बच्चों तथा उनको पानी की सही मात्रा उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से योजना की शुरुआत की गई है.

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत आने वाले क्षेत्र

  • रतिया
  • पीपली
  • जहानाबाद
  • सिरसा
  • आदि क्षेत्र

मेरा पानी मेरी विरासत योजना अन्य जानकारी

  • Mera Pani Meri Virasat Yojana Haryana के अंतर्गत किसानों को वहां पर खेती करने की अनुमति नहीं मिलेगी जहां पर उन्हें पिछले साल धान की खेती की है.
  • ऐसी ग्रामसभा है जहां पर खेती करने के लिए भूजल स्तर 35% से नीचे है कहां के किसान धान की खेती नहीं कर सकते हैं.
  • किसान जिनके ट्यूबवेल की पावर 50 हॉर्स पावर  से ज्यादा है. वह किसान धान की खेती नहीं कर सकते हैं.
  • खेती करने तथा ड्रिप इरिगेशन पर राज्य सरकार द्वारा 85% प्रदान की जाएगी
  • राज्य के वह किसान इस योजना का लाभ ले सकते हैं जिनके खेतों में पानी की कमी हो गई है.

मेरा पानी मेरी विरासत योजना प्रोत्साहन राशि

  • Mera Pani Meri Virasat Yojana Haryana के अंतर्गत सरकार द्वारा यदि आप धान की खेती छोड़ते हैं और उसकी जगह पर मक्का अरहर अन्य तरह की फसल का उत्पादन करने पर सरकार द्वारा ₹7000 की राशि दी जाएगी.
  • मक्का बिचाई  मशीन  पर 40% सब्सिडी दी जाएगी.
  • धान की खेती को छोड़ने के बाद फलदार पौधे तथा अन्य तरह की सरकार द्वारा ₹7000 की राशि प्रदान की जाएगी.
  • राज्य में बागवानी को बढ़ावा देने के लिए इस योजना की शुरुआत की गई है.

मेरा पानी मेरी विरासत योजना आवश्यक पात्रता

  • योजना का सीधा लाभ हरियाणा राज्य के नागरिक को मिलेगा.
  • राज्य के 18  ब्लॉक के किसान योजना का लाभ ले सकते हैं.
  • परंपरागत खेती यानी कि धान की खेती को छोड़ने पर सरकार द्वारा ₹7000 दिए जाएंगे.
  • राज्य में बढ़ रही पानी की कमी को देखते हुए राज्य सरकार द्वारा इस योजना को शुरू करने का फैसला लिया गया है.

आवश्यक दस्तावेज

latest News:- #MeraPaniMeriVirasat योजना के तहत पंजीकरण की अंतिम तिथि 15.7.2021 से बढ़ाकर अब 31.7.2022 कर दी गई है किसान भाई पोर्टल पर जल्द पंजीकरण करके योजना का लाभ ले सकते हैं. MFMB पोर्टल पर पंजीकरण करने के लिए आपको fasal.haryana.gov.in की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा. आप सभी जानते हैं कि पानी की समस्या को देखते हुए इस योजना की शुरुआत की गई है. योजना के लिए सरकार द्वारा चलाए जा रहे हैं हेल्पलाइन नंबर (9AM-5PM):- 0172-2571553 पर आप किसी भी तरह की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • बैंक अकाउंट
  • जमीन के कागजात
  • पैन कार्ड

हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना ऑनलाइन आवेदन कैसे करें?

दोस्तों यदि आप इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो नीचे दिए हुए तरीकों को फॉलो करें: –

Read More: Haryana 5000 Rs Grant scheme application form

  • Mera Pani Meri Virasat Yojana का लाभ लेने के लिए आपको सर्वप्रथम आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा.
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपको ” न्यू रजिस्ट्रेशन ” कॉलिंग प्रदान होगा.
  • वहां पर क्लिक करने के बाद आप एक नए पेज पर पहुंच जाएंगे.
  • सभी जानकारियां देने के बाद आपको योजना का लाभ मिल जाएगा.
  • योजना का लाभ महीने तथा अन्य परंपरागत फसल को छोड़ने के बाद आपको सरकार द्वारा सहायता राशि के तौर पर ₹7000 आपके बैंक अकाउंट में जमा किए जाएंगे.

फसल विविधीकरण पंजीकरण ऑनलाइन कैसे करें?

  • योजना का लाभ लेने के लिए आपको सर्वप्रथम आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा.
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपको फसल विविधीकरण पंजीकरण करें कि ऑप्शन पर क्लिक करना है.
  • आपके सामने एक नया पेज खुल जाएगा.
  • यहां पर आपको अपना आधार कार्ड नंबर देना होगा.
  • इसके पश्चात आपको वहां पर otp दर्ज करना होगा.
  • सभी जानकारियां जैसे कि आपको वहां पर फार्मर डिटेल्स अन्य टोकन की जानकारी बनी होगी.
  • सभी जानकारियां भर देने के बाद आपको योजना का लाभ मिलेगा.

Helpline Number -1800-180-2117

Kisan Call Centre-18001801551

FAQ आपके द्वारा पूछे गए प्रश्न

अन्य फसल अपनाने पर राज्य सरकार द्वारा क्या सहायता दी जाएगी?

हरियाणा सरकार द्वारा धान की खेती करने पर आपको ₹7000 की राशि देने जाएगी.

योजना का लाभ कौन कौन ले सकता है.

राज्य का जो नागरिक धान की खेती छोड़कर अन्य फसल का उत्पादन करना चाहता है योजना के लिए पात्र है.

अंत में दोस्तों आज हमने आपको हरियाणा सरकार द्वारा चलाई जा रही है Mera Pani Meri Virasat Yojana की जानकारी दी हमारे द्वारा दी हुई जानकारी आपको कैसी लगी आर्टिकल से जुड़े कोई भी प्रश्न आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्नों का अवश्य उत्तर देंगे धन्यवाद पोस्ट को शेयर करना ना भूले.

Leave a Comment

Your email address will not be published.

x